Tuesday, 2 Jun 2020

साल 1918 में इस वायरस से हुई थी पांच करोड़ लोगों की मौत, एक करोड़ भारतीय भी हुए थे शिकार

 चीन के वुहान शहर से शुरू हुए कोरोना वायरस ने अब तक लाखों जिंदगियां लील ली हैं। जबकि लाखों लोग इससे संक्रमित हैं। इतने दिन बीत जाने के बाद भी अब तक कोई इसका इलाज नहीं ढूंढ पाया है।

आलम ये है कि इस वायरस को लेकर लोगों में खौफ बढ़ता जा रहा है। हालांकि, कोरोना दुनिया का इकलौता वायरस नहीं, जिसने हाहाकार मचा रखा है। बल्कि इससे पहले भी कई ऐसे वायरस आ चुके हैं, जिसने दुनिया में तबाही मचाई। इनमें साल 1918 में एक ऐसा वायरस आया था, जिसने केवल तीन महीनों में करीब पांच करोड़ लोगों की जान ले ली। आज तक किसी वायरस ने दुनियाभर में इस तरह हाहाकार नहीं मचाया था।

प्रथम विश्व युद्ध के बाद अचानक दुनिया में स्पेनिश फ्लू की बीमारी फैल गई। देखते-देखते उस वक्त करीब 5 करोड़ लोग इसका शिकार हो गये। इस फ्लू को उस वक्त नाम दिया गया ‘स्पेनिश फ्लू’। जानलेवा बीमारी के फलने फूलने का केंद्र था फ्रांस की सीमा से लगा इलाका। जहां गंदगी, फौज के तंग खंदक और भीड़भाड़ वाले कैंप थे. विश्व युद्ध के खात्मे के बाद फौजी अपने साथ वायरस को लेकर घरों को लौटे। और फिर देखते-देखते 5-10 करोड़ मौत की आगोश में समाते चले गये। हालांकि उस वक्त आवागमन के साधनों की कमी होने के कारण इसके फैलने की रफ्तार बहुत कम थी। मगर स्पेनिश फ्लू की मारत क्षमता बहुत तेज थी। जिस कोरोना वायरस से पूरी दुनिया आज अवाक है स्पेनिश फ्लू के मुकाबले इसकी भवायहता कुछ भी नहीं है।

इस स्पेनिश फ्लू से भारत भी अछूता नहीं रहा था।तब भारत का मतलब, अखंड भारत होता है जिसमें पाकिस्तान और बांग्लादेश शामिल था। माना जाता है कि स्पेनिश फ्लू ने भारत में भी जमकर तबाही मचाई थी और करीब एक करोड़ लोग इस बीमारी की चपेट में आकर अपनी जान गंवा बैठे थे।

Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via