Friday, 3 Apr 2020

मां शैलपुत्री को समर्पित है नवरात्र का पहला दिन, पौराणिक कहानी में जानें किस देवी का अवतार है माता-cnitoday.com

मां शैलपुत्री को समर्पित है नवरात्र का पहला दिन, पौराणिक कहानी में जानें किस देवी का अवतार है माता नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा  के प्रथम रूप शैलपुत्री (Shailputri) का पूजन किया जाता है। मान्य्ता है कि शैलपुत्री पर्वतराज हिमालय की बेटी हैं। नवरात्रि में शैलपुत्री पूजन का विशेष महत्व् है। हिन्दू् पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इनके पूजन से मूलाधार चक्र जाग्रत हो जाता है। कहते हैं कि जो भी भक्ता श्रद्धा भाव से मां की पूजा करता है उसे सुख और सिद्धि की प्राप्ति होती है

कलश स्थापना का शुभ समय 
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि का प्रारंभ 24 मार्च दिन मंगलवार को दोपहर 02 बजकर 57 मिनट पर हो रहा है, जो 25 मार्च दिन बुधवार को शाम 05 बजकर 26 मिनट  तक रहेगी। बुधवार सुबह कलश स्थापना के लिए 58 मिनट का शुभ समय प्राप्त हो रहा है। आप सुबह 06 बजकर 19 मिनट से सुबह 07 बजकर 17 मिनट के मध्य कलश स्थापना कर सकते हैं। 

Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via