Tuesday, 2 Jun 2020

पुलिस का पत्रकारों पर अत्याचार पत्रकार और आखिरकार कब सुनेगी सरकार गुहार-cnitoday.com

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पत्रकारों पर अत्याचार का सिलसिला जारी ।पूरे देश में जहां कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है तथा दिन प्रतिदिन यह बीमारी महामारी का रूप लेती नजर आ रही है ।वही देश का चौथा स्तंभ माने जाने वाले पत्रकारों ने भी अभी तक अहम भूमिका निभाई और निभाते नजर आ रहे हैं। तो वही प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने भी पुलिस प्रशासन को सख्त हिदायत दी है कि पत्रकारों के कार्य में किसी भी प्रकार की बाधा ना डाली जाए। साथ ही साथ उनका पूर्ण सहयोग किया जाए इस महामारी के समय जब पत्रकार अपनी जान की फिक्र किए बिना  दिन रात एक करते हुए अपने कार्य को निरंतर करते नजर आ रहे हैं ।परंतु मडियाव पुलिस महकमे को कहां मुख्यमंत्री के आदेशों की फिक्र ।खबर के दौरान मड़ियांव पुलिस में तैनात उप निरीक्षक धीरेंद्र कुमार सिंह और होमगार्ड ने एक निजी समाचार पत्र के पत्रकार के साथ ना सिर्फ अभद्रता की अपितु गाली गलौज करते हुए जेल में डालने की धमकी दी।जिससे राजधानी में पत्रकारों में आक्रोश नजर आ रहा है साथ ही साथ काफी मात्रा में पत्रकार मडियांव थाने पर एकत्र होकर इस निंदनीय कार्य की आलोचना कर रहे हैं। एवंम ऐसे पुलिसकर्मियों के ऊपर तत्काल कार्रवाई की मांग करते नजर आ रहे हैं।

Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via