Tuesday, 7 Jul 2020

कोरोना से हिंदुस्तान को बचाने के लिए आज रात 12 बजे से 21 दिनों का लॉकडाउन: पीएम मोदी-cnitoday.com

नई दिल्ली। कोरोना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बार फिर से जनता से रूबरू हुए हैं। अपने संबोधन में सबसे पहले पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू में लोगों की जिम्मेदारी व योगदान की सराहना की। उन्होंने ने कहा कि एक जनता कर्फ्यू से लोगों ने बता दिया कि सभी भारतीय एकजुट होकर उसका मुकाबला करते हैं।

आज हम कोरोना के बारे में सुन भी रहे हैं और यह समझ रहे हैं कि कैसे इस महामारी ने पूरे विश्व को बेबस कर दिया है। कोरोना वायरस इतनी तेज़ी से फैल रहा है कि देशों में चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं।

इस कोरोना से मुकाबले के लिए एकमात्र विकल्प है सोशल डिस्टेंसिंग यानि की एकदूसरे से दूर रहना। कोरोना से बचना है तो उसके संक्रमण की साइकिल तोड़नी होगी। सोशल डिस्टेंसिंग हर नागरिक के लिए है। पीएम के लिए भी है, कुछ लोगों की गलत सोच आपको और पूरे देश को मुश्किल में झोंक देगी।

ये कीमत कितनी चुकानी पड़ेगी ये सोचना भी हमारे लिए बहुत मुश्किल है। राज्य सरकारों के लॉकडाउन के फैसले को गंभीरता से लेना होगा।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज राज 12 बजे से पूरा देश लॉकडाउन होने जा रहा है। आज रात के बाद घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी लगाई जा रही है। ये एक तरह का कर्फ्यू ही है जो जनता कर्फ्यू से अधिक बड़ा है। इससे कोरोना का खात्म होगा और हर एक नागरिक के जीवन को बचाने की कोशिश होगी।

” आप इस समय देश में जहां भी हैं वहीं रहे, देश में ये संपूर्ण लॉकडाउन तीन हफ्ते यानि की 21 दिन का होगा। अगर ये 21 दिन नहीं संभलें तो हम सब तबाह हो जाएंगे। इसलिए बाहर निकलना क्या होता है ये 21 दिन के आप भूल जाएं।आपको ये याद रखना है कि घर से बाहर निकलने वाला हर एक कदम आपको कोरोना जैसी बिमारी में ढकेल सकता है।” पीएम मोदी ने आगे कहा।

इसलिए सतर्क रहिए और अपने घर पर रहिए। पीएम मोदी ने एक बैनर दिखाने हुए ये समझाया कि कोरोना – कोई रोड पर न निकले। पीएम ने कहा कि जब से वायरस फैलना शुरू होता है तो इसे रोकना बहुत मुश्किल होता है। ये याद रखिए कि इटली और अमेरिका की स्वास्थ्य व्यवस्था सबसे अच्छी हैं, लेकिन इसके बावजूद वो इस वायरस को नहीं रोक पा रहे हैं। लेकिन हमें कुछ देशों से समझना होगा कि वो कैसे अपनी सरकारों के फैसलों को मानते रहे हैं और वो कोरोना पर काबू पा रहे हैं।

हमें ये समझना होगा कि हम तभी कोरोना से बच सकते हैं, जब हम अपने घरों की लक्ष्मण रेखा न लांघे। ये समय कदम-कदम पर संयम बरतने का है। हमें यह समझना होगा कि ये समय धैर्य का समय है। मेरी आप से हाथ जोड़ कर ये विनती है कि आप सभी उन लोगों के लिए प्रार्थना करिए जो इस समय इस वायरस से बाहर रहकर लड़ रहे हैं।आपको सही जानकारी देने के लिए सही जानकारी देने के लिए मीडियावालों के बारे में सोचिए, पुलिस वालों के बारे में सोचिए जो रात दिन बाहर रहकर आपके लिए काम कर रहे हैं। कोरोना जांच के लिए किट व अन्य मेडिकल सुविधाओं के लिए 15000 करोड़ की धनराशि जारी की जा रही है।

मैंने राज्य सरकारों से कह दिया है कि इस समय सरकारों की पहली प्राथमिकता स्वास्थ्य सेवाएं ही होनी चाहिए। लेकिन साथियों इस समय मेरा आपसे अनुरोध है कि किसी भी तरह की अफवाह से बचें और बिना किसी डॉक्टरी सलह के कोई दवा न लें। साथियों मुझे विश्वास है कि 21 दिन का लॉकडाउन एक लंबा समय है लेकिन आपके परिवार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आप अपना ध्यान रखिए और अपनो का ध्यान रखिए और विजय का संकल्प कर के इन बंधनों को स्वीकार करें।

Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via